elon musk

एलोन मस्क (Elon Musk) की मिस्टीरियस तकनीक – श्रवण (hearing) क्षमता के आगे

Elon Musk, Neuralink, Brain Chip: यूनाइटेड किंगडम के अख़बार इंडिपेंडेंट की एक रिपोर्ट के अनुसार ,स्पेस एक्स के CEO एलोन मस्क ने खुलासा किया कि, न्यूरॉलिंक चिप के उपयोग से हम मनुष्य के श्रवण सीमा के बहार की ध्वनि भी सुन सकते है। हम ऐसी चीजे सुन सकते है जो पहले सुनना असंभव था।

न्यूरॉलिंक चिप हमें सामन्य आवृत्तियों और आयामों से आगे सुनने में सक्षम बनाता है । “

दिलचस्प और रोमांचक बात यह है की, रहस्यमय चिप के उपयोग से गंभीर रूप से रीढ़ की हड्डी से पीड़ित लोग भी चल-फिर सकने में सक्षम होंगे। अगर न्यूरोलिंक चिप की कार्यकारिता संपूर्ण रूप से सिद्ध हो जाये तो यह रीढ़ की हड्डी से पीड़ित लोगो के लिए एक उत्तम संसाधन होगा।

न्यूरॉलिंक चिप कैसे काम करेगा ?

वास्तव में न्यूरॉलिंक चिप क्या है ?

एलोन मस्क ने 2016 में कंपनी की स्थापना की थी, लेकिन अब तक, सीईओ ने केवल एक ही ऐसा प्रेजेंटेशन बनाया है जो यह बताता है की यह टेक्नोलॉजी किस तरह से काम करती है। एलोन मास्क की कंपनी का यह लक्ष्य है की वह मस्तिष्क और कंप्यूटर को एक साथ जोड़ सके।

वे सिलाई मशीन जैसे यंत्र से मस्तिस्क के तंतुओ को न्यूरॉलिंक चिप के साथ जोड़ेगे, जो प्रत्यारोपित मस्तिष्क(Implanted Brain) की “सिलाई” करेगा, जिसे C-टाइप USB केबल के साथ कनेक्ट किया जा सकेगा।

यह जानकारी उस शोधपत्र (Research Paper) पर आधारित है जिसे कंपनी के वैज्ञानिकों ने पिछले वर्ष प्रकाशित किया था।

इसके अलावा, कंपनी के सीईओ ने ऐसी योजना बनाई है जो चिप की क्षमताओं को बढ़ाने और मानव जाति को कृत्रिम बुद्धि (Artificial Intelligence) के साथ प्रतिस्पर्धा करने के योग्य बनायेगी।

फिर भी, न्यूरॉलिंक चिप का प्रथम ध्येय न्यूरोलॉजिकल मुद्दों और मस्तिष्क के विकारों जैसे की, पार्किंसंस, अवसाद और चिंता से पीड़ित लोगों की मदद करना है।

अभी तक एलोन मस्क ने न्यूरॉलिंक चिप के बारे में सभी जानकारी ट्वीटर पर पोस्ट करके दी है। लेकिन वह २८ अगस्त को एक event करने वाले है जिसमे चिप के बारे में अधिकतम जानकारी साझा कर सकते है वह जनता को इस चिप की तकनीक और विशेषता को विस्तार से समझा सकते है।

कृत्रिम बुद्धि (Artificial intelligence) से आगे जाने का लक्ष्य :-

-संगीत को सीधे मस्तिस्क तक पहुचाना
-न्यूरॉलिंक चिप पहनने वाले के हार्मोन स्तर को विनियमित करना
-मनुष्य की क्षमता का विकास करना जैसे अवसाद से राहत और तर्क क्षमता का विकास।

एलोन मस्क का मानना है कि, रहस्यमय चिप के माध्यम से मानवता कृत्रिम बुद्धि (Artificial intelligence) से भी आगे जा सकती है। Singularity के सिद्धांत के अनुसार उन्हे हमेशा यह भय था की कही कृत्रिम बुद्धि (Artificial intelligence) द्वारा मानवता नस्ट ना हो जाए।

न्यू योर्क टाईम्स के एक इंटरव्यू में एलोन मस्क ने बताया की आगामी पांच वर्षो मे कृत्रिम बुद्धि (Artificial intelligence) मानवता को पीछे छोड़ सकती है परंतु उन्होंने यह भी कहा की इसका यह मतलब नही है की सब कुछ बर्बाद हो जायेगा हो सकता है की, पारिस्थितियां खराब या अस्थिर हो जाए।

“बहुत स्मार्ट लोगों द्वारा AI की अनदेखी क्यों की जाती है, इस बारे में मेरा आकलन है कि बहुत स्मार्ट लोग यह नहीं सोचते हैं कि एक कंप्यूटर कभी भी उतना स्मार्ट नहीं हो सकता है जितना कि वे हैं, हम एक ऐसी स्थिति की ओर बढ़ रहे हैं जहां कृत्रिम बुद्धि AI इंसानों की तुलना में काफी अधिक स्मार्ट है और मुझे लगता है कि अब समय सीमा पांच साल से भी कम है। ” – एलोन मस्क

source: Bloomberg

Subscribe