राशि के अनुसार कैसे करे महाशिवरात्रि पूजा ?

राशि के अनुसार कैसे करे महाशिवरात्रि पूजा ?

महाशिवरात्रि (Mahashivratri) को कालरात्रि भी कहा गया है। सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि में भगवान शिव का ब्रह्मा से रुद्र रूप में अवतरण हुआ। प्रलय की वेला में इसी दिन प्रदोष के समय भगवान शिव तांडव करते हुए ब्रह्मांड को तीसरे नेत्र की ज्वाला से समाप्त कर देते हैं, इसीलिए इसे कालरात्रि कहा गया। महाशिवरात्रि (Mahashivratri) को वर्षभर में पड़ने वाली सिद्ध रात्रियों में से एक माना गया है। इस दिन ब्रह्मांड में दिव्य ऊर्जाएं चरम पर होती हैं। इसलिए शिवरात्रि को की गई पूजा-अर्चना, जप दान आदि का फल कई गुना होता है।

यह भी पढ़े : कम हो सकते है पेट्रोल डीजल के दाम

महाशिवरात्रि के दिन कैसे करे शिव आराधना

  • जलाभिषेक के अलावा शिव उपासना में बेलपत्र का विशेष महत्व है।
  • तीन दलों से युक्त एक बिल्वपत्र जो भगवान शिव को अर्पित करते हैं तो यह हमारे तीन जन्मों के पापों का नाश करता है।
  • दूध, चमेली, बेला और श्वेतार्क के पुष्प तथा श्वेत चंदन भगवान शिव को अर्पित करें।
  • स्वास्थ्य और समृद्धि के लिए भगवान शिव का पंचामृत से अभिषेक करें।
  • मानसिक एकाग्रता के लिए दूध से एवं सर्वसिद्धि के लिए गंगाजल से भगवान शिव का अभिषेक करें।

यह भी पढ़े : क्या भारत में फिर से होगा लोकडाउन ?

क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि ?

  • ऐसा माना जाता है कि इस विशेष (Mahashivratri) दिन ही ब्रम्हा के रूद्र रूप में मध्यरात्र‍ि को भगवान शंकर का अवतरण हुआ था।
  • वहीं यह भी मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव ने तांडव कर अपना तीसरा नेत्र खोला था और ब्रम्हांड को इस नेत्र की ज्वाला से समाप्त किया था।
  • इसके अलावा कई स्थानों पर इस दिन को भगवान शिव के विवाह से भी जोड़ा जाता है और यह माना जाता है कि इसी पावन दिन भगवान शिव और मां पार्वती का विवाह हुआ था।

यह भी पढ़े : Heart attack सुबह के समय बाथरूम में ही क्यों पड़ता है?

राशि अनुसार कैसे करे महाशिवरात्रि में शिव आराधना ?

मेष राशि

गुलाल से शिव जी की आराधना करे।
ॐ ममलेश्वराय नमः मन्त्र का जाप करे।

वृषभ राशि

वृषभ राशि वालो को दूध से शिव जी की आराधना करनी चाहिए।
ॐ नागेश्वराय नमः मन्त्र का जाप करे।

मिथुन राशि

मिथुन राशि को गन्ने से शिव जी की आराधना करनी चाहिए।
ॐ भूतेश्वराय नमः मन्त्र का जाप करे।

कर्क राशि

कर्क राशि वालो को पंचामृत से शिव जी की आराधना करनी चाहिए।
और महादेव के सभी द्वादश नामो का स्मरण करना चाहिए।

यह भी पढ़े : ओडिशा के इस जंगल में लगी है 10 दिनों से आग

सिंह राशि

सिंह राशि वालो को शहद से शिव जी की आराधना करनी चाहिए।
और ॐ नमः शिवाय की एक माला का जाप भी करना चाहिए।

कन्या राशि

कन्या राशि वालो को सिर्फ शुद्ध जल से शिवजी का अभिषेक करना चाहिए।
और शिव चालीसा का पाठ करना चाहिए।

तुला राशि

तुला राशि वाले जातको को दही से शिवजी का अभिषेक करना चाहिए।
और शिवअस्टक का जाप करना चाहिए।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि वाले जातको को दूध और घी से शिव जी का अभिषेक करना चाहिए।
और ॐ अंगारेश्वराय नमः का जाप करना चाहिए।

धनु राशि

धनु राशि वालो को दूध से शिव जी का अभिषेक करना चाहिए।
और ॐ रामेश्वराय नमः का जाप करना चाहिए।

मकर राशि

मकर राशि वाले जातको को शिवजी का अनार के राश से अभिषेक करना चाहिए।
और शिव शहस्त्र्नाम का उच्चारण करना चाहिए।

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि वाले लोगो को दूध, दही, शक्कर, घी इन सभी चीजों को अलग अलग अभिषेक करना चाहिए।
और ॐ नमः शिवाय का जाप करना चाहिये।

मीन राशि

मीन राशि वाले जातको को मौसम के खास फल से शिवजी का अभिषेक करना चाहिए।
और ॐ भौमेश्वराय नमः का जाप करना चाहिए

नौकरी धंधे के लिए कैसे करे शिव आराधना ?

महाशिवरात्रि (Mahashivratri) के शुभ मुहूर्त पर शिवलिंग की प्राण प्रतिष्ठा करवाने से धंधे में बढ़ोतरी होती है और नौकरी में तरक्की मिलती है।

परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए कैसे करे शिवरात्रि पूजा ?

शुद्ध गंगा जल, दूध, दही, शक्कर, घी इन सभी चीजों से अभिषेक करना चाहिए। और धुप दीपक जलाकर पूजा करने से परेशानियों से छुटकारा मिलता है।

बीमारी से परेशान होने पर क्या करे ?

बीमारी से छुटकारा पाने के लिए रुद्राक्ष की माला के साथ महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए।

महा मृत्युंजय मंत्र – Maha Mrityunjay Mantra

ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान्मृ त्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ। ॐ जूं स माम् पालय पालय स: जूं ॐ। इस पूरे संसार के पालनहार, तीन नेत्र वाले भगवान शिव की हम पूजा करते हैं।

Subscribe