क्या भारत में फिर से होगा लोकडाउन ?- Again Lockdown in India?

क्या भारत में फिर से होगा लोकडाउन ?- Again Lockdown in India?

Lockdown in India : भारत (India) कोरोना (Corona) की दूसरी लहर आने की संभावना लग रही है। कोरोना (Corona) की इस दूसरी लहर के लिए भारत के पांच राज्य अहम् भूमिका निभा रहे है जो कुल कोरोना का 86 % सक्रीय कोरोना पॉज़ीटिव केश के लिए जिम्मेदार है।

यह भी पढ़े : जानिये आपके राज्य में पेट्रोल डीजल के भाव


दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कोरोना (Corona) की लहर को देखते हुए एलान किया है की भारत के वो पांच राज्य जिनमे कोरोना पॉज़ीटिव केश अधिकतम है ,अगर भारत का कोई व्यक्ति इन राज्यों से दिल्ली आना चाहता हो तो उन्हें आरटी-पीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट (RT-PCR Negative Report) दिखाना अनिवार्य है।

भारत (India) के वो पांच राज्य कौन से है ?

भारत के पांच राज्य अहम् भूमिका निभा रहे है जो कुल कोरोना का 86 % सक्रीय कोरोना पॉज़ीटिव केश के लिए जिम्मेदार है। वह राज्य इस प्रकार है।

  • मध्य प्रदेश
  • महाराष्ट्र
  • केरल
  • छत्तीसगढ़
  • पंजाब

यह भी पढ़े : इस तरह करनी चाहिए महाशिवरात्रि पूजा

दिल्ली में कब तक नियम लागू रहेगा ?

यह नियम 26 फरवरी 2021 से 15 मार्च 2021 के दोपहर 12 बजे तक लागू रहेगा। महत्त्व की बात यह है की यदि आपने कोरोना की टेस्टिंग कराइ है तो आप सिर्फ कोरोना नेगेटिव ही नहीं आपकी रिपोर्ट भी 72 घंटे से ज्‍यादा पुरानी नहीं होनी चाहिए।

यह भी पढ़े : इस देश में हो चूका है लॉक डाउन

केंद्र सरकार कोरोना (Corona)की लहर को रोकने के लिए क्या कर रही है ?

  • गृह मंत्री अमित शाह ने स्वास्थ्य मंत्रालय से टीकाकरण अभियान में तेजी लाने को कहा जिससे कोरोना की दूसरी लहार (Lockdown in India) को रोका जा सके।
  • भारत सरकार अब 50 साल से अधिक उम्र वालों को कोरोना टीका लगाने की योजना बना रही है।
  • कम से कम समय में 27 करोड़ लोगों को टीका देने का लक्ष्य पूरा करने के लिए सरकार इस अभियान में प्राइवेट सेक्टर को शामिल करना चाहती है।
  • अगले चरण में उन लोगों को भी टीका दिया जाएगा जिनकी उम्र 50 साल से कम है लेकिन जिन्हें गंभीर बीमारियां हैं और कोरोना से जिनको मौत का जोखिम ज्यादा है।

यह भी पढ़े : आप को नहीं लेनी चाहिए वेक्सीन अगर . .

नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वी.के. पॉल ने कहा कि
टीकाकरण अभियान के अगले चरण की तैयारियां जोरों पर हैं और इसमें प्राइवेट सेक्टर की हिस्सेदारी बड़े स्तर पर होगी। अभी भी हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स के टीकाकरण में प्राइवेट सेक्टर मुख्य रूप से शामिल है। एक दिन में दी जाने वाली 10 हजार वैक्सीन में से 2 हजार प्राइवेट सेक्टर की देखरेख में दी जा रही है। चूंकि हम टीकाकरण अभियान में और तेजी लाना चाहते हैं, इसलिए प्राइवेट सेक्टर की हिस्सेदारी और ज्यादा होगी।

क्या है सरकार का लक्ष्य ?

  • सरकार का एक दिन में कम से कम 50 हजार टीके लगाने का लक्ष्य है।
  • अभी तक पंजीकरण करवाने वाले 67 प्रतिशत हेल्थ वर्करों और 40 प्रतिशत फ्रंटलाइन वर्करों को कोरोना का पहले चरण का टीका दिया जा चूका है।
  • केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से टीकाकरण अभियान में तेजी लाने को कहा है। सरकार की नजर महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों पर भी है। जिससे भारत में दूसरे लोकडाउन (Lockdown in India) को रोका जा सके।