कौन कौन टीका सकता है और कितने रुपये में टीकाकरण होगा ?

कौन कौन टीका सकता है और कितने रुपये में टीकाकरण होगा ?

Corona Vaccination : भारत सरकार ने हाल ही में कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे फेज की आगाही की है, जिसके अनुसार अब 60 साल से अधिक उम्र वाले लोगो को भी टीका लगाया जा सकता है। इतना ही नहीं, जो लोग ४५ साल के है और जिन्हे को-मॉर्बोडिटीज है, वे लोग भी वैक्सीन लगवाने के लिए अधिकृत होंगे।

निजी अस्पतालों में टीका लगवाने के लिए अभी कीमत (Price of Vaccination) तय नहीं हुयी है जबकि सरकारी अस्पतालों में टीकाकरण की सुविधा पूरी तरह से ही मुफ्त होगी। सरकार के इस ऐलान के बाद लोगों में टीकाकरण के नए फेज को लेकर कई सवाल हैं, जिसका जवाब वे जानना चाहते हैं।

क्या भारत में फिर से होगा लोकडाउन ?

कैसे मान लिया जाये की आप को-मॉर्बिडिटीज से पीड़ित है ?

अगर किसी की उम्र 45 साल से अधिक है और उसे को-मॉर्बिडिटीज है तो उसे वैक्सीन लगवाने जाने के समय एक सर्टिफिकेट दिखाना होगा। इस सर्टिफिकेट को वह शख्स रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर से अटेस्ट करवा सकेगा।

टीकाकरण के दूसरे फेज में कैसे होगा वेरिफिकेशन?

  • जो लोग कोरोना टीकाकरण करवाने जाएंगे, वे सरकारी पहचान पत्र दिखा सकते हैं।
  • ये आईडी कार्ड-आधार नंबर, ड्राइविंग लाइसेंस, हेल्थ केयर इंश्योरेंस स्मार्ट कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, सांसद/विधायकों को दिए गए आईडी कार्ड, पैन कार्ड, बैंक/पोस्ट ऑफिस की पासबुक, पेंशन डॉक्युमेंट, सरकारी आईडी कार्ड आदि हैं।

क्या आप पेट्रोल और डीजल के दामो की बढ़ोतरी सह सकते है ?

सरकारी अस्पताल में कितने रुपये में लगेगा टीका?

सरकार ने साफ किया है कि सरकारी अस्पतालों में फ्री में कोरोना की वैक्सीन (Corona Vaccination) लगाई जाएगी। इसके लिए, लोगों को कोई राशि नहीं देनी होगी।

प्राइवेट अस्पताल में कितना देना होगा पैसा?

सरकार ने बताया है कि प्राइवेट में फ्री में वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) नहीं होगा। इसके लिए लोगों को रुपये खर्च (Price of Vaccination) करने पड़ेंगे। हालांकि, अभी तक सभी राज्यों ने राशि का ऐलान नहीं किया है।
लेकिन गुजरात में कोरोना वैक्सीन प्राइवेट अस्पताल में 250 रुपये में लगेगी।

प्राइवेट अस्पतालों के लिए कितनी राशि तय कर सकती है सरकार?

एक डोज की अधिकतम कीमत 400 रुपये प्राइवेट अस्पताल के लिए तय की जा सकती है।

क्या सिर्फ को-विन ऐप (Co-WIN Application) पर ही करा सकेंगे रजिस्ट्रेशन?

  • कोरोना टीकाकरण (Corona Vaccination) के लिए को-विन ऐप (Co-WIN Application) पर रजिस्ट्रेशन कराया जाता है।
  • लेकिन माना जा रहा है कि सरकार दूसरे फेज में हिस्सा लेने वालों की संख्या के कारण कई अन्य विकल्पों को भी दे सकती है।

Heart attack सुबह के समय बाथरूम में ही क्यों पड़ता है?

क्या चुन सकेंगे मनपसंद वैक्सीन?

  • सरकार की ओर से इस पर कोई स्पष्टता नहीं है।
  • ड्रग रेग्युलेटर ने देश के लिए दो वैक्सीन्स को हरी झंडी दी हुई है।
  • एक ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड, जिसे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने बनाया है और दूसरी भारत बायोटेक की कोवैक्सीन है।
  • यह एक देसी कोरोना वैक्सीन है। हेल्थ केयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स, जिन्हें अब तक कोरोना टीका दिया गया है, उनके पास दोनों वैक्सीन में से एक चुनने का विकल्प नहीं था।

कौन-कौन लोग टीका लगवाने के लिए अधिकृत है ?

कोई भी व्यक्ति जिसकी उम्र 60 साल से अधिक है । इसके अलावा, 45 साल से ज्यादा उम्र वाला शख्स, जिसे ऐसी बीमारी हो जिससे कोरोना और अधिक गंभीर हो जाए।

को-मॉर्बिडिटीज बीमारी क्या होती हैं?

  • केंद्र सरकार को अभी यह लिस्ट जारी करनी है कि को-मॉर्बिडिटीज में किन बिमारियो को शामिल किया जाये।
  • कुछ अधिकारियो का मानना है की इन बीमारियों में डायबिटीज, हाइपरटेंशन, कैंसर, दिल की बीमारी, लंग, लिवर या फिर किडनी डिस-ऑर्डर्स आदि बीमारियों को लिस्ट में शामिल किया जा सकता है।