दिसम्बर 5, 2020

NewsJunglee

हमेशा सच के लिए तत्पर.

राफेल जेट्स का दूसरा बैच फ्रांस से नॉन-स्टॉप फ्लाइट के बाद जामनगर एरबेस पर उतरा

1 min read
भारत द्वारा 59,000 करोड़ की लागत से इनमें से 36 विमानों की खरीद के लिए फ्रांस के साथ एक अंतर-सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने के लगभग चार साल बाद पांच जेट्स का पहला बैच 29 जुलाई को भारत आया था।
Rafale Jets, Img Src: Gulf News
Loading...

Rafale Jets: भारतीय वायु सेना को और मजबूत बनाने के लिए बने राफेल जेट विमानों का दूसरा जत्था फ्रांस से नॉन-स्टॉप उड़ान भरने के बाद भारत पहुंचा है जिसकी खबर वायु सेना ने आज शाम ट्वीट करते हुए दी। दूसरे लॉट में फ्रांस से चार जेट आने की उम्मीद थी।

भारत द्वारा 59,000 करोड़ की लागत से इनमें से 36 विमानों की खरीद के लिए फ्रांस के साथ एक अंतर-सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने के लगभग चार साल बाद पांच जेट्स का पहला बैच 29 जुलाई को भारत आया था।

राफेल जेट रूस के सुखोई विमान के बाद 23 वर्षों में भारतीय वायु सेना के बेड़े में शामिल होने वाला पहला पश्चिमी लड़ाकू विमान है जो की बुधवार को अंबाला हवाई अड्डे पर एक विशेष वाटर कैनन सलूट के लिए उतरा था।

भारतीय वायु सेना ने “एरो फॉर्मैशन” में राफल्स की तस्वीर के साथ ट्वीट किया, “वेलकम होम ‘गोल्डन एरो’। ब्लू स्काईज़ हमेशा।

तीन सिंगल-सीटर और दो ट्विन-सीटर विमानों वाले इस बेड़े को वायु सेना के नंबर 17 स्क्वाड्रन का हिस्सा बनना था, जिसे ‘गोल्डन एरो’ के नाम से भी जाना जाता है।

Loading...

रफाले जेट पिछले महीने वायु सेना की 88 वीं वर्षगांठ का मुख्य आकर्षण थे। नव शामिल बेड़े भी पूर्वी लद्दाख में छंटनी कर रहे हैं, जहां महीनों से भारतीय और चीनी सैनिक आमने-सामने हैं।

Loading...

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *