अहमदाबाद स्टेशन पर सौर ऊर्जा के उपयोग से सालाना लाखो रुपये की बचत – Ahmedabad Railway Station

अहमदाबाद स्टेशन पर सौर ऊर्जा के उपयोग से सालाना लाखो रुपये की बचत – Ahmedabad Railway Station

गुजरात के अहमदाबाद के रेलवे स्टेशन (Ahmedabad Railway Station) के कई विभाग अब सौर ऊर्जा से संचालित होंगे।

अहमदाबाद का रेलवे स्टेशन, रेलवे डेपो और रेलवे विश्रामगृह अब सौर ऊर्जा से जगमगा रहे है। क्युकी अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के लिए 640 किलोवॉटर पावर क्षमता के सोलर पैनल (solar panel) का प्रबंध किया गया है।

लगाए गए इस सोलर पैनल (solar panel) से रेलवे बोर्ड सालाना 9.37 लाख रुपए की बचत कर पायेगा।

सोलर पैनल (solar panel) लगाए जाने के बाद अहमदाबाद रेलवे ने 9 से 15 दिसम्बर ऊर्जा संरक्षण सप्ताह के तौर पर मनाया था।

यह भी पढ़े : रेलवे में निकली बम्पर भर्तियां

अहमदाबाद मण्डल के रेल प्रबंधक दीपक कुमार झा ने बताया कि

ऊर्जा संरक्षण (energy conservation) के प्रति लोगो में जागरूकता लाने और ऊर्जा के महत्व को समझाने के लिए देश में प्रति वर्ष 14 दिसम्बर को ऊर्जा संरक्षण दिवस के रूप में मनाया जाता है। (Ahmedabad Railway Station)
इन संदेशों के प्रचार और प्रसार के लिए ऊर्जा संरक्षण सप्ताह में मण्डल के समस्त छोटे-बड़े स्टेशनों पर ऊर्जा संरक्षण के प्रति चेतना बढ़ाने के लिए पोस्टर और स्टीकर रेल परिसर में लगाए गए थे।
पेम्पलेट का वितरण और जन उद्घोषणा से लोगों को ऊर्जा के संयमित व्यय करने के लिए आह्वाहन किया गया। अधिकारी एवं इंजीनियर ने रेल कर्मचारियों और उनके परिवार जनों को भी ऊर्जा संरक्षण के बारे में समझाया।

  • वरिष्ठ मण्डल विद्युत इंजीनियर विशाल मंडलोई के अनुसार मण्डल पर अब तक 640 किलो वॉट क्षमता के सोलर पैनल स्थापित कर चूका है।
  • इसके जरिए लगभग 9.37 लाख रुपए के रेल राजस्व की सालाना बचत हो रही है।
    मण्डल का बिजली विभाग,ऊर्जा संरक्षण और गैर पारम्परिक ऊर्जा स्रोतों के उपयोग के लिए कटिबद्ध है।
  • निकट भविस्य में अहमदाबाद रेल मंडल लगभग 505 किलोवॉट पावर के सोलर प्लांट अहमदाबाद और गांधीधाम में लगाने की योजना बना रहा है।

यह भी पढ़े : मेक इन इंडिया VS चाइना

(Ahmedabad Railway Station)

ऊर्जा संरक्षण सप्ताह के दौरान मंडल के ध्रांगध्रा स्टेशन स्थित चालक दल के लिए बने विश्रामगृह की छत पर 20 किलोवॉट की सौर शक्ति रूफ-टॉप पैनल लगाया गया है, जो प्रतिदिन औसतन 80 यूनिट पैदा करता है। इस से ध्रांगध्रा स्टेशन पर लगभग 2.10 लाख रुपए की वार्षिक बचत होगी।