Daisugi technique – पेड़ के ऊपर पेड़ डाइसुगि तकनीक

Daisugi technique – पेड़ के ऊपर पेड़ डाइसुगि तकनीक

Daisugi technique : डाईसुगि एक एसी तकनीक है जिस मे एक वृक्ष पर सीधी लकड़ी वाले दूसरे वृक्ष को उगाया जाता है। अर्थात एक पेड़ के ऊपर दूसरा पेड़ उगाया जा सकता है। आपने जीवन में कभी एक पेड़ के ऊपर दूसरा पेड़ देखा होगा जैसे की किसी घने पेड़ जैसे की बरगद या पीपल के पेड़ पर ताड़ या खजूर के पेड़ को देखा होगा जो की बिल्कुल प्राकृतिक प्रक्रिया है। लेकिन Daisugi technique (डाइसुगि तकनीक) मानव निर्मित है।

यह भी पढ़े : 10 दिनों से ओडिशा का यह जंगल जल रहा है

इस तकनीक मे एक पेड़ के आधार को शूट (काट देना) किया जाता है और एक दूसरे पेड़ को उगाया जाता है। इस दूसरे पेड़ को इस तरह उगाया जाता ही जिससे दूसरे पेड़ का तना लंबवत सीधा रह सके। जिस पेड़ के तने सीधे रहते है उन पेड़ों का अधिकतम उपयोग किया जाता है क्युकी इस तरह के पेड़ों का उपयोग जीवन जरूरी चीजो को बनाने मे किया जा सकता है।

कब शुरू हुई Daisugi technique (डाइसुगि तकनीक) ?

  • माना जाता है की यह तकनीक मुरोमाची समयकाल के दौरान शुरू की गई थी। यह समयकाल लगभग 1336 – 1573 के आस पास था। इस तकनीक की शुरुवात जापान के क्योटो शहर से हुई थी।
  • Daisugi technique (डाइसुगि तकनीक) हमेशा से ही पर्यटको के लिए आकर्षण का केंद्र रहा है।
  • इस तकनीक के परिणामस्वरूप सीधी फसल ( सीधे तने वाले वृक्ष) होती है और सबसे अच्छी बात यह है की इन वृक्षों को उगाने के लिए जमीन की जरूरत नही होती।

यह भी पढ़े : आधार कार्ड फ्रॉड से कैसे बचे ?

Daisugi technique (डाइसुगि तकनीक) में प्लेटफॉर्म सीडर क्या है?

प्लेटफॉर्म सीडर यह एक वृक्ष है जिसका ऊपरी भाग हथेली जैसा दीखता है। इस हथेली जैसे भाग को प्लेटफॉर्म सीडर कहते है, जिसपर दूसरे पेड़ जिनके तने लंबवत सीधे होते है उन्हे उगाया जा सकता है।

यह भी पढ़े : Heart attack सुबह के समय बाथरूम में ही क्यों पड़ता है?

क्या है डाइसुगि तकनीक?

  • Daisugi technique (डाइसुगि तकनीक) में एक बोनसाई (एक पेड़ जो ऊँचाई मे ज्यादा बड़ा नही होता) पेड़ पर लंबवत सीधे वृक्ष को उगाया जा सकता है।
  • जापान मे अधिकतम घर लकड़ी के बनाये जाते है।
  • बोनसाई यह पेड़ो में उस प्रकार की प्रजाति होती है जैसे इन्शानो में बौने होते है।
  • जापान हमेशा से अविस्कारो का देश रहा है जब जापान मे लकड़ी की कमी उत्पन्न हुई तब जापान ने अपने क्योटा मे इस तकनीक का अविस्कार किया।

डाइसुगि तकनीक की जरूरत क्यु है?

  • आज मानव बस्ती मे बहुत तेजी से वृद्धि हो रही है इस वृद्धि के साथ ही जीवन जरूरी चीजो की मांग भी बढ़ रही है।
  • लकड़ी प्राकृतिक संसाधनों मे मानव के लिए सबसे उपयोगी संसाधन है।
  • मानव अपनी जरूरतो को पुरा करने के लिए वनो की कटाई कर रहा है जिससे प्रकृति पर दुस्प्रभाव पड़ रहे है।
  • कार्बन डाइ ऑक्साइड की मात्रा बढ़ती जा रही है।
  • जमीन का कटाव बढ़ रहा है।
  • इन सभी संस्याओ के लिए Daisugi technique (डाइसुगि तकनीक) एक उत्तम तकनीक है।

क्या भारत में डाइसुगि तकनीक का उपयोग होता है ?

इस प्रकार प्राकृतिक रूप से पेड़ के ऊपर पेड़ उगाने की आधिकारिक रूप से कोई अहवाल प्राप्त नहीं हुए है। लेकिन हमें उम्मीद है की भारत सरकार भी अपने वनो को बसाहने के लिए निकट भविष्य में Daisugi technique (डाइसुगि तकनीक) का उपयोग करेगी।

यह भी पढ़े : RC बनवाने के नियमों में इन राज्यों ने किया फिर से बड़ा बदलाव, जानें सबकुछ

डाइसुगी (Daisugi technique) से बने घर की तस्वीर